Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2012

DECEMBER DIARY :the climactic end of the diary.

वो इकतीस दिसम्बर की रात.....

वो इकतीस दिसम्बर की रात.....                                                
वो पहली बार गले मिलना-मिलाना                                                 वो पहली बार मेरे गोद मेँ सोना                                                  वो नीँद मेँ,अनजाने,तेरे धऱकन पर हाथ रखना वो नयी रात मेँ नये रिस्ते बनाना..........याद है! §१§
वो रिस्तोँ के आऱ मेँ महीनोँ आँख मिचौली खेलना वो कभी-कभी आँखोँ का आँखोँ से मिल जाना वो आँखोँ का खुद-ब-खुद बंद हो जाना...........याद है! §२§
वो फासलेँ बनाना औ' कभी-कभी नजदीकियोँ के हदोँ को पार करना वो क्लास मेँ कागज पे मेरे dialogues लिखना औ' मुझे ही gift कर देना वो copies बदलना वो watches बदलना वो हँसते-हँसते अचानक से मेरा रोना........याद है! §३§
वो हर रोज रास्ते मेँ मिलना वो रात के सपनोँ को सुबह बैठ के सिलना वो रंग लगाने के बहाने गुस्ताखियों का खिलना  वो मिट्टी से सराबोर,तुझे घर तक छोऱना वो हर शाम बैठ के पढ़ना-पढाना वो हर छोटे से topic के बाद toffee खाना......याद है! §४§
वो टेबल से टकरा के मेरे होठोँ पे चोट आना वो हर शाम park मेँ चाँद का निकलना वो गुरु…

AN OPEN LETTER FROM A VAGABOND:GOOD BYE 2012

This blog I believe is required to be the most essential x-ray of the year 2012,the year that is just getting ready to kiss and bid a final good bye,the year that is just getting ready to complete its promises and its obvious span...more over the calculated time period.
I further believe an year can not be just an year for every one.Its your perpetual state and your highs and  more over the distributed probabilities  that actually controls and decides the age of an year. I further believe this time I learnt a lot ,faulted a  lot .. did  crimes and was many times caught ... yet what stills me ever and ever  the little things I learnt from every dot. And I believe I should jot down things which I believe I learnt as an epic conclusion ,as a mark of respect to the trespassing year(they ask me why trespassing?..."of course trespassing ..it never asked you a permission to enter in your life).
1.Beer I believe is the most assuring thing adored in the collage streets.I have tried my best to…

बात उतनी भी पुरानी नहीं है |

बात उतनी भी  पुरानी नहीं है |
हालत इस कदर उठे ,
की खूं टपक पड़े ,
आँखों में अब और पानी नहीं है ;
खूं से रंगा है शहर ,आसमां
फलक उतना भी  आसमानी नहीं है |
बात उतनी भी पुरानी नहीं है ||

आज आँचल की
बाजार में जो कीमत उठी है ;
लोथड़े जो चिथड़ो से ढके पड़े  हैं;
हँस क्यूँ रहे हो नादानी नहीं है|

बात उतनी भी पुरानी नहीं है ||

किस चौराहे पे 
कल तक 
कितनी लास गिरी थी ;
गिनती किसे मुह्जवानी नहीं है?
आँखों पे पट्टे,हाथों में तराजू 
कह क्यूँ न देते 
"बेमानी नहीं  है |"
बात उतनी भी  पुरानी नहीं है ||

बड़े शौक से उसने 
बाँधा था रेशम ,
सर्द हाथों पे अब कोई निशानी नहीं है |
गम इस कदर उठे  हैं दर दर से लेकिन 
किस सीरत में आज मनमानी नहीं है?
बात उतनी भी पुरानी नहीं है ||

बात किस किस की करें  हम
और किस मुद्दे पे 
कोई कहे....
 "ये मेरी कहानी नहीं है |" 
अपने नज़रों पे थोड़ा नज़र रख लें हम 
आज इतनी भी मेहरबानी नहीं है |
चलो  अब उभारों से नज़रें हटा लें 
ये सड़क हमारा खानदानी नहीं है |
बात उतनी भी पुरानी नहीं है ||

 इतना तो तय हो गया है इन दिनों में 
चीखने  चिल्लानें में 
हमारा  कोई सानी नहीं है |
पोस्टरों से इन्साफ मांगती ये…

In last four days

In last four days
I have seen 
people talking
about senses and sentiments.
Media mannerism  surging out so loud,
candles and flickering hope in crowd.
In last four days
raped, nailed and wounded humanity
has woke up to change the system,the law 
and the long written prophesy of greed and hunger 
has woke up to polish the democracy ,I wonder.
In last four days
I have seen 
pictures of hope getting spread,
News of recovery getting greeted.
Notes of every critical utter from the hospital
getting flashed on crystal display.
In last four days 
I have seen 
the better sexes ,
terrified and paranoid.
And the best of them 
on the cold streets
asking for rights from the mortal sprits.
Forcing departments to work
wearing banners and poster sheets.
In last four days 
the countless RTIs and the so many fact files
the high pitched anchoring reflecting on tiles
the tears out of these humanoid  eyes
have asked them to think,rethink ....
to polish the city in shock.
In last four days
I have seen whole country
praying for peace,
genera…

DECEMBER DIARY:street talks and judgementalism

My dear,
There are some stories that I never told you. May be because these stories do not have any hero to die for or villain to live enough.
May be because these stories have synonymous connection with every society where some day some one was brought up beneath an underlying struggle to get wise as well as educated.
I have always believed that being wise and being educated are not always the same thing,but in order to elucidate these stories you need to be both or you must be hoping to be both.
.....................................
My dear,
since the beginning of this december I am roaming through every critical streets that connects this society from the rest of the world.

I some times feel these people are just aimless bunch of loveless people.They work like machines,behave like machines ,respect like machines and of course make love like machines.Orthodoxy and set trends of living has muffled this society ab intio. And the worst thing is the  exception....there is no one to break …

December Diary

कुछ यादें पल दो पल की सर्दी के रातों की तरह  खिड़कियों से छन छन कर आती हुई | कुछ शौक से मुझमें मिलती हुई , कुछ शौक से मुझे मिलाती हुई  कुछ शौक से मेरे दो चार  शौक़ीन अदाओं को सिलती हुई , कुछ चेहरे पे केशुओं की तरह  बेपरवाह सी खिलती हुई , कुछ सर्द हवाओं के रुख की तरह  रास्ते बदलती हुई, कुछ दिसम्बर के सुबह की तरह  साइकिल से दस्ताने हिलती हुई , कुछ गलियों  के एक छोर से बेख़ौफ़ चिल्लाती हुई ,  कुछ यादें पल दो पल की सर्दी के रातों की तरह  खिड़कियों से छन छन कर आती हुई | कुछ रातों को  लकड़ियों के लपटों से जलाती हुई , कुछ गोदी में सुला कर  सुकून  और शराब पिलाती हुई , कुछ फूँक फूँक कर हथेलियों को  गर्म हवा से भरती हुई , कुछ चुप्पी को सीने में समेटे बातें करने से डरती हुई , कुछ जिंदगी  को हैरानी से  टुक टुक सी ताकती हुई , कुछ रौशनदान के सुराखों से  रौशनी की तरह झांकती हुई , कुछ मेरे लिखे लफ़्ज़ों को  बेपरवाह गाती हुई ,   कुछ यादें पल दो पल की सर्दी के रातों की तरह  खिड़कियों से छन छन कर आती हुई |