Skip to main content

Posts

Showing posts from 2014

रिस्क लेने में क्या जाता है !

तमाम हैरत से तकते है 
वो सब के सब 
उसके साथी 
जो उसके इर्द -गिर्द घूमते है |
सवाल करते है 
"ये कैसी आदत है तुम्हारी ;
ये किस अफ़साने में जी रही हो ?
ये कैसा इश्क़ है तुम्हारा ;
क्षितिज को चूमने की तमन्ना ? 
तुम्हें पता है , मुझे पता है 
उसके लम्हों के चहल पहल में 
कहीं तुम्हारा जिक्र नहीं है | "

" ये कैसी जुर्रत है तुम्हारी ;
ये किस अफ़साने में जी रही हो ?
फरमेट के कारिंदे को 
कीट्स के लफ्ज़ समझा रही हो ?
कच्चे याददाश्त के उस शायर से 
शबनम की उम्मीद करती हो ?
तुम्हें पता है , मुझे पता है 
वो जो शख्स है ,
उस शख्सियत को ओढ़ने वाले 
इश्क़ नहीं किया करते हैं | "

" देख लियो 
तू डूबेगी एक दिन |
कोई उस जैसी ही मामूल शहजादी 
तेरे कारिंदे को उठा ले जायेगी |" 
..........................................................
और सब के चुप हो जाने के बाद 
बड़े ही खुश्क और दबे हर्फ़ में 
वो लड़की
 बस इतना कह पाती 
" रिस्क लेने में क्या जाता है ! "

ये कमरा कब खुलेगा ?

आखिरी मार्च में  
जब मेरे कमरे के सामने का गुलमोहर खिलता है 
परिंदों का एक सैलाब गुजरता है |
कभी कभी कुछ एक  परिंदे 
कमरे में आ जाते 
दीवार दर दीवार टकराते रहते ;
एक टक आईने को देखते रहते
और खुद  को समझते 
की उन्हें भी कोई समझ रहा है |
दिन ब दिन मचलते रहते 
एक आजाद रविश की तलाश में |

ये कमरा कब खुलेगा ?
कब कोई आवारा झोंका 
सलाखों को तिरछा कर जाएगा ?
खुशबू औ उम्मीद पर और कब तक जीना पड़ेगा ?

इस कसमकश में इतना तो एहसास होता है 
कोई कमरा मुझे भी बाँध रखा है |
फर्क इतना है 
मुझे मालूम नहीं 
वो कमरा कितनी दूर तक फैला है ?
उसकी सलाखों में कितना जोर है ? 
मेरी खुसबू औ उम्मीद क्या है ?

अच्छा नहीं लगता , यूँ अचानक से बड़ा हो जाना

अच्छा नहीं लगता 
सादे कच्चे रंग से लिपे पुते ये सारे दरो दीवारें ;
गुमनाम सा बंद कमरा ;
और दो चार पन्नों में सिमटी जिंदगी |

अच्छी नहीं लगती 
ये बदहवास खामोशियाँ ;
उनकी अजिमोशान चुप्पी 
जिनकी सोहबत में काट दी हमने सारे ऑर्थो डॉक्स धागे |

अच्छा नहीं लगता 
उनका नज़रों के किनारे से बस यूँ ही निकल जाना 
जिनके रोजमर्रा पे लिख दी  हमने दो चार किताबें |

अच्छा नहीं लगता 
यूँ अचानक से बड़ा हो जाना 
जो हमारी किलकारियों पे अब कोई लाकर नहीं देता खिलौना ||

Recreating "NEERA"

नीरा
कभी कभी तुम क्षितिज सी लगती हो |

दूर कहीं आसमां से उतर कर
जमीं को चूमती ;
दूर कहीं सर्द वादियों  में खामोश दौड़ती ||

इस कभी कभी के दौड़ में , नीरा
जब भी वक़्त मिलता है
मेरी आँखें आसमां टटोलती हैं;
और जब जब तारे टूटते हैं ,
हर एक टूटे तारों के पीछे पीछे दौड़ता हूँ |

इस कभी कभी के दौड़ में , नीरा
जेहन में एक क्रांति उठती हैं
हर उस लम्हे से लड़ जाऊँ
जिसका अंत निश्चित हैं ;
जिसके सत्य पे कोई शक नहीं |
हर उस लम्हे से लड़ जाऊँ
जो कुछ कुछ तुम जैसा हैं ||

इस कभी कभी के दौड़ में , नीरा
इतनी सी ख्वाईश लेकर जीता हूँ :
जन्नत के चिराग को तेरी हथेलियों पे रख जाऊँ ;
और उस रौशनी को चूमता रहूँ
जो तेरी जुबाँ को रंगते जा रहे हैं ||

Acclaimed for his novel Sei somay (those days) , Sunil Gangopadhyay remains the heart and soul of bengali literal history .However very less has been talked about the poetry of this sahitya  academy award winning bengali maestro . The character Neera derives its inspiration from his work Ephemeral.

I am confused .

I am the hero of someone's dream ;
I am the villain of someone's interpretation ;
I am as eternal as chaos in your approximity ;
I am as real as the rising sun .

I am in love , atleast I pretend .
I am in love , atleast they interpret .
Yet I have never been in love .

I have never witnessed;
 the love as expressed
in  people's literature, in sonnets and music .
I have never seen
 stars shining  and moons seren .
I am a monologue , a loaner
in anguish and fear to carve a  sky .
I am the dialogue ,
answer to my  conscience;
to win or to lose , but not to get rejected.

I am confused
for I am not in love
 as dictated by sonnets ;
 as presented by classics ;
as portrayed by theaters ;
as pretended by protagonist in reels.
I am not in love
as they are , as they all are .
Yet I smile when she smiles ;
Yet I drink when her pain travels .




Illumination : More or less an epilogue well written

1400 sq. ft of bamboo chatai , 20000 diyas ,100  people with 100 candles struggle to create a magnum opus , of type and degree rarely cherished . Epic mesmerization and clamour to get shot with a quality lens remains the talk of the evening . Almost 3000 and more than that photographs selfies and non-selfies are taken with an illuminating background in a span of 3 hours.

Nothing has changed over the year except the sincerity to contribute towards this illuminating background. Nothing has changed over the year except the enthusiasm to create this masterpiece .

Illumination has always remained a cultural instrument to be forwarded by a generation to the next  since more than 30 years ( arguably 35 ). I , as an individual have been quite a near sight observant of this since last four years and I have realized that there has been a rapid change in the universe minus illumination over these four years . There has been rise and rise of social networking , technological advancement in cellu…

GETTING CLICKED , CIGARETTE & SMILES

1. GETTING CLICKED
Getting clicked is not a passion neither a choice . I realised this while talking to one of my friend about Diwali celebration . Precisely , while concluding the talk she said " wow , that's nice .Get yourself clicked ." 
I don't have much affection towards camera .Staying still in a pose that is arguably not so much as you are , is substantially not a matter to be appreciated .However I had a notion to keep safe the time and history through pictures . And with this perspective of clicking things just as a symbol of futuristic nostalgia I lived almost 24 years of my life . 

But this certainly is not the scenario . People don't get clicked just because they want to keep a part of evening safe with themselves . People get clicked or demand to get clicked because of a responsibility .That responsibility might be in form of a text from some HIGH COMMAND ,as it is in my case , or may be in form of INSTAGRAM demand , or may be in form of staying on soci…

BJPian Majoriterianism sweeps two state.

Though I wrote this poetry for one advertisement design competition .However later we decided to drop it due to use of some heavy weight words . It seems quite fitting today.

रुको नहीं ,चले चलो 
ये क्षितिज भी तुम से है 
ये धरा भी तुम से है 
तुम में है अग्नि प्रखर 
तुम में है प्रतिज्ञा स्वर 

तुम से है तेरी रागिनी , तुम से है तेरी लेखनी 
तुम से है तेरी प्रतिस्प्रधा , तुम से है तेरी रश्मियाँ |
रुको नहीं ,  खुद को अग्रसर करो  |
बीजेपी के साथ , कुछ बेहतर करो |

FEVER BLOG : कभी कभी यूँ भी होता है इश्क़ में

कभी कभी यूँ भी होता है इश्क़ में :
कुछ भी इश्क़ जैसा नहीं रहता | 
न कुछ कहने को होता है , 
न कोई सुनने को चश्मदीद ;
न कोई आहट , न दिल्लगी 
न कोई सरसराहट किसी के आने जाने की |
तब ये दीवारें , थोड़ी मुश्किल सी लगती है |
कुछ कुछ मुजरिम सा एहसास होता है |

कभी कभी यूँ भी होता है इश्क़ में :
 तबियत ज़ार ज़ार हो जाती है 
कुछ भी इश्क़ जैसा नहीं रहता || 

Reflections and memories : The Dalit story

Its saturday .
I can't deny the constructive that my mid-semester is going to start from Monday , yet while reading the COMMENT page The Hindu article titled " A rightward shifts in Dalit politics " reminds me of old days reflections and memories . As the author expresses his point of fractured dalit identity seeing its representation in BJP-NDA (read Modi -Paswan) ideology , the pretext reminds me some of the old reflections and memories  coming from my school day history and democratic lectures .

1. First story originates from a small village named Yeola , Nasik from where my friend Sarang yeola comes ,though he denies the point as he does not know much history except the history of architecture . Dr Ambedkar , In one of the conference in Yeola said that as it perpetuates social injustice , he does not want to die hindu. This whistle blowing statement lead to 1936 "all religion conference " where representatives from Muslim ,Sikh , Christian , Buddhism put forw…

ख़ामोशी का चादर

हम हैं गुस्ताख़ 
बेफिक्र , फकीरी में जीने वाले 
हम चुप रहे , ये समझ जा सकता है 
वो फिक्रमंद 
मुहब्बत की सीपियों को चुनने वाले हैं 
वो चुप रहें , बड़ा भारी गुजरता है 

ये एक ख़ामोशी का चादर ;
रात के
कतरे कतरे ओस की बूंदों से
भारी होता चला जा रहा है |

मैं किससे लड़ रहा हूँ

वो कौन है 
जो मुझसे  जीता है 
जिसकी ख्वाईश में मेरा चेहरा है 
जिसका मैं अक्स हूँ , और इत्तेफ़ाक़ भी 
जिसका मैं गुरुर हूँ , और हयात भी 
जिसके गिरेबाँ में मेरा रंग , दुपट्टे में मेरी खुशबू 
जिसकी  आँखों में मेरा दर्द , लफ्ज़ में मेरे नगमे ||
वो कौन है 
जिसमें मैं बीतता हूँ ?


वो कौन है 
जिससे मैं जीता हूँ |
जिसकी जुल्फें मेरे सपनों को रंगीनियत देते हैं 
जो मेरी हर एक आह का हिस्सा है 
जो मेरे हर एक लफ्ज़ को सुनता है , चुनता है
जो मेरे अफसानों का साहिर है 
जो मेरी आरजू से वाकिफ है ||
वो कौन है 
जो मुझमें बीतता है ?

हुई मुद्दत , कोई टोके , एहसास दिलाये 
मैं किससे लड़ रहा हूँ , किसके वास्ते ?

Evening address : teachers day 2014

Sept 7 , 2014 
Pre script : we celebrated Teachers' day on 7th this year just to make use of sunday , and make the event grand  which included a painting and sketch competition for all kid of various schools of kharagpur and finally the cultural evening .Thank you Manish and his team for such a prolific arrangement and logistics.
Just sharing my part of the evening .



Respected  Deputy Director Prof. saubhik Bhattacharya ,Esteemed professors , my dear friends and colleagues and my youngers ,who are representing various schools of kharagpur - in each of you I see a future , a vision for a better society.

Before I start this evening note on behalf of Radhakrishnan hall of residence 
" GOOD EVENING and NAMASKAR"
Carrying the culture and history , we continue to celebrate this evening as teachers' day : as a mark of commemoration to Dr S. Radhakrishnan : an Indian philosopher and statesman ,
1st vice -president and then president of India , spalding professor of eastern religion…

The original crush : Sarah Kay is a gorgeous girl

Sarah Kay is a gorgeous girl .

With that tiny eyes and winey charm 
flowering pupils , and lime white teeth 
Sarah Kay is a gorgeous girl .
Have you seen her reciting rhymes 
holding that microphone stand ,
dictating fingers up and down 
and those sleeveless frock dangling up to knee 
Sarah Kay is a gorgeous girl .

And so I quote with all senses 
"Sarah  , You are beautiful .
When you first wake up,
“You are beautiful.”
When you’ve just been crying,
“You are beautiful.”
When you don’t wanna hear it,
“You are beautiful.”
When you don’t believe it,
“You are beautiful.”
When nobody else will tell you,
“You are beautiful.”
Love still thinks, “You are beautiful.”

Sarah Kay is a gorgeous girl 
With that string around the neck 
and the stone greenish - blue .
Yet the  only fact  that goes wrong 
she is 26 , I am twenty two.

P.S : Quote has been taken from Sarah Kay 's poem "when love arrives". Sarah Kay is an American poet. Known for her spoken word poetry

मेहंदी

Pre-script :There is a common conception that darker the colour of mehandi , reflects the depth of love .


जब कभी 
इश्क़  में 
सब कुछ ठीक नहीं चलता ;
वो अपनी हथेलियों और पैरों में 
मेहंदी लगा के बैठ जाती है |
"देखते हैं 
मुहब्बत कितना रंग लाती है |"
ये एक बेनजीर टेस्ट ऑफ़ हाइपोथिसिस है ||

Weekend poetry : चेंज ऑफ़ टेस्ट , स्लिप ऑफ़ टंग & शालीनता का दुपट्टा

1.शालीनता का दुपट्टा  

लबों पर खामोशियों के साये 
नज़र में गुजारिश ,एक जिज्ञाषा की 
जुबाँ पे कुछ कुछ कहने , कुछ कुछ सुनने 
कुछ चुप रहने की आदत 
और 
कंधे पे शालीनता का दुपट्टा |
असर हो रहा है हलके हलके 
बदल रहे हैं शहरी हालत हलके हलके ||
#Presence 
.................................................................................................................................
2.स्लिप ऑफ़ टंग (slip of tongue)

वो जब भी दो चार दोस्तों के साथ चलता है 
मुद्दों की बातें करता है ,
और 
बेफिक्र बातें करता है |
आज बातें करते करते 
अचानक चुप सा हो गया ,
किसी गुजरते मुसाफिर को
 एक टक देखता रहा ....... ...खामोश 
इस रोज़ रोज़ की ख़ामोशी में ,
कोई तसव्वुर तो नहीं पल रहा ?

वो आने वाले एक मिनट तक 
कुछ ख़ास बोला नहीं ;
और जो बोला तो 
"इश्किया" के बदले "इक्सिया" बोल गया |
शायद स्लिप ऑफ़ टंग हो गया 

ख़ामोशी ने जुबाँ पे अधिकार जमा रखा है || 
............................................................................................................................
3.चेंज ऑफ़ टेस्ट (change of taste)

कभी कभी 
ऐसा लगता है :
वो सा…

Birthday Blog : GULZAR

It reminds me of old freshers days , we were three or may be four , including me .Lined up and asked to take a smoke , every one denied with an innocent excuse " I am sorry ,I don't "; and they were forced to take a sip . When it came to my turn , I didn't deny ,rather I changed the topic diplomatically , I said
" मैं सिगरेट तो नहीं पीता 
मगर हर आने वाले से पूछ लेता हूँ कि "माचिस है?" 
बहुत कुछ है जिसे मैं फूंक देना चाहता हूँ "  

Hence I flipped the topic to a newer dimensions , point is they rather forgot to force me. 
Happy Birthday Gulzar  and a short poem :


तुम 
और तुम्हारे दरियाओं के कांटे 
तुम्हारे दीवारों पे उभरते स्केच 
सारी बेचैन परछाइयाँ 
तुम्हारे बोस्की ब्याहने का वक़्त 
तुम्हारे सुर , तुम्हारी शहनाइयां 
रातों के सन्नाटे 
जुम्बिश , आहट , सरगोशियाँ 
तुम्हारे जले बुझे अधकहे ख्यालों की राख 
एक खामोश  अपनापन है 
हर एक पूर्णविराम में ||

तुम्हें देखते देखते मैंने 
कितने लम्हें छिले हैं 
कितनी बातें काटी है , 
कितनी रातें काटी है |
न है , न होगा कभी तुम सा कोई गुलज़…

Little little

Little little button eyes,
little stupid little wise .
Little cheesy choppy cheeks 
little silken ,little sleeks.

A little late pouring monsoon 
on window slab , a little moon .
To my little serious baritone 
your little sweet slimy tune .

A little stream of kissing zephyr
Little humor and a little satire .
A little cute caked name 
in little little glittering flame ,

And all that I can put from here 
A little hope and a little cheer .
Little wishes and little love 
and like the little little morning dew
a little dream and a little you.
........................................................................................................................................................

जिंदगी

जिंदगी कितनी बेपरवाह सी होती 
जो न जश्न हो , न आरजू 
न ख्वाइशें , न जुस्तजू 
न जिस्म को जिस्म से कोई शिकायत होती 
न कोई जहान की तलाश , न कोई जहन्नुम का खौफ 
न कोई जंग , न कोई काफिला 
न कोई हार जीत का सिलसिला 
बेफ़िक्र से चलते हम और तुम 
न आँखों में कोई दर्द होता 
न चेहरे पे कोई जख्म 
न कोई कसमकश का अफ़साना होता 
न कोई बुलंदियों के किस्से 
न कभी गिरते 
न कभी उठते 
सब चलते फिरते बुत होते 
जिंदगी की तलाश में ||

AUGUST

वो पहली बार  जब अगस्त में बारिस आई थी  लेट मानसून का लिबास ओढ़े, छत के किनारे किनारे से  रिसते हुए कुछ छीटें  मेरे बालकनी में आकर जमा हो जाय करती थी | कुछ जज्बाती थपेड़े  कांच के खिड़कियों को नॉक करते रहते थे  जैसे एक अदबी मुस्कराहट लिए  कहते हों: " देर आया हूँ , खैर दुरुस्त आया हूँ | मोहल्ले की बिजली आती थी , जाती थी ; आती थी , जाती थी ; बारिशों ने एक पूर्णविराम लगा दिया | सुना है कोई उम्रदराज सा पीपल  औंधे मुह गिरा था बिजली के तार पर ; गले में V शेप बन गया था | सुसाइड था , वो कहते हैं  बेचारा कब तक अपनी उम्र को खींचता  गला टूंड पड़ गया था , बारिश की ख्वाईश में | सुना है जाते जाते लिख गया है एक नोट : "कितनी देर लगा दी तूने आने में  मैंने जिंदगी के आखिरी लम्हे घुट घुट के जिए हैं |
वो पहली बार  मुझे एहसास हुआ : एक उम्रदराज पीपल घर घर में रहता है ; किसी को परवाह नहीं ||

Abolishing CSAT will be a factional, forged and unsubstantiated analogy of reservation policy .

With meters of political dictates rising across the streets , Its arguably an irony to believe that street show and vandalism is trying to fix a negotiation between political responsibility and UPSC's autonomous stature . While the polity has its responsibility to address the expectations of all those entities who have inked their fingers and voted , UPSC has a clear cut responsibility to ensure an examination algorithm which fetches us best of the officers to run administrative , police , forest , revenue , trade ,post ,railway ,audit and finance ,traffic and all such titles belonging to state, union and concurrent list .


We don't belong to an era of paper and ink , rather we belong to an era of excel spreadsheets , R studio .Reports and drafts these days are based on statistical elements .Histograms and pie-charts are readily used to express an idea , a project or a process which passes through the desk of civil servants.CSAT is a brain child of changing scenario is works of …

परछाईयाँ

तुम्हारे बेजुबान साये जब इस मोड़ से जाते हैं 
ठहर जाती है नज़र दो चार लम्हे के लिए 
उतर कर पटरियों से चला जाता हूँ
किनारे  किनारे  बिछे गिट्टियों पर |
एक्सीडेंट के खरासों को गिन गिन कर रातें कटती है |
साये बोलते नहीं ,
खैर इतने जख्म दे जाते हैं |

क्यों दे रखी है तुमने इसे
 बेफिक्र घूमने की आजादी 
अपने परछाईयों से लिपटकर क्यों नहीं सोती हो ?

तुम्हारे दर्द

देर तक सोचता रहा
मिल जाए दो एक लफ्ज़
तो बुन दूँ तुम्हारे दर्द
कुछ स्केच खींच कर अचरे को सजा दूँ
जैसे कुछ अधखिले गुलाब तूफानी मंजर से परेशां परेशां से
देर तक सोचता रहा
ट्रेन इटारसी से खुल कर अलाहाबाद पहुँच गयी
कुछ भी तो मिला नहीं।
बीच में किसी चैन पुल कर रोकी थी
शायद उसका घर यहीं कहीं पड़ता था।
पूरा कम्पार्टमेंट इस मुद्दे पे बहस में लगा था
तब भी मैं तुम्हें ही सोचता रहा
कुछ भी तो मिला नहीं।
शायद तुम्हारे दर्द की
आदत सी हो गयी है।
और
आदतों पे नज़्म नहीं लिक्खे जाते।

मोहल्ला

मुहल्ले के बीचो बीच से एक पगडण्डी गुजरती है।
सुना है एक ज़माने से
हम और उनको बाँटते आई है ये।
हम में अहम् है 
और 
उनमें जिंदगी जीने की कशमकश ।
शाम होते ही निकल पड़ते हैं 
पगडण्डी पे
ईंटों और खपरैल के टुकड़े लिए 
हमारे और उनके बच्चे साथ साथ ।।
कोई यूनिक सा खेल है ये ।