Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2014

The original story : 1. ईला

This is my first attempt with story writing. #criticism please.




ईला पेशे से राइटर थी ,तब जब मैं आखिरी बार उससे मिला था| तब दिल्ली में बारिस का मौसम था |
कम से कम दस साल तो हो ही गए होंगे , नहीं नहीं शायद १३ -१४ साल हो गए |तब वाजपेयी जी की सरकार हुआ करती थी |ट्विटर ,फेसबुक कुछ भी नहीं था |मैं संडे इवनिंग को उसे कॉल किया करता था ,वार्डन पिक किया करती थी और बड़े सियासती आवाज में चीखती  थी "अरे इल्ली ,दिल्ली से कॉल आया है " फिर  ..हलकी सी ख़ामोशी ..सीढ़ियों पे दौड़ते पैरों की खनक और अचानक से एक तेज तर्रार 
" हेल्लो" | 
"अरे मर्लिन जान ,तुम्हारी   पढ़ाई कैसी चल रही है ?"
मर्लिन जान .......| इसी नाम से मैं इला को पुकारा करता था,अरसों से | हम दोनों एक अफगानी राइटर के प्रशंसक थे और ये नाम उसी के किसी नोवेल से चुराया गया था |

   हम वही पुराने अंदाज में वही पुराने किस्से , वही पुराने कसमें वादे दुहराया करते थे | फेंटासी और सपनों के बीच एक  पतली सी रेखा होती है|ईला के हर लफ्ज़ उस पतली सी रेखा पे दौड़ा करते थे : सरपट , बिना रुके ; साँस टूटने का भी ख्याल नहीं रखती थी | और अंत  में…

chocolate day special

फिर याद आया वो सिलसिला |
#chocolate को आधा तोड़ कर 
बाँट लेने का;
जल्दबाजी में लबों को काट लेने का ||

Note of thanks and etc.

Thank you .
Thank you people for your wishes and care .Special thanks to those whatsapp audios ,inbox messages , inbox poetry and every little things.In last two decades I have been witness of all sort of metamorphosis that society has gone through.
Its 4th february today ;being celebrated as saraswati puja in larger parts of the country.There has been quite an obvious change in puja celebrations in this country .One of my friend from ludhiyana called me today and they don't celebrate it , not at all .When I was a kid I remember my uncles and people in my proximity used to celebrate it with such an outstanding valor and courage .They used to put barrage on roads , collect chanda , order for the idol making according to collection amount .Finally it used to be a hot shot two to three day celebrations ; I used to put all my books there in the vicinity of puja mandap. In last five to seven years these things have completely dried off.Yet Bengal has always been epicenter of cultural eti…