Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2014

Kgp and Bikes

अपने अपने होम टाउन में तो पूछता भी नहीं कोई | अब वो जमाना भी लद गया जब बाइक के साथ फोटो अपलोड करते थे तो थोड़ा एडवांटेज मिलता था | परन्तु इस बदलते दौड़ में भी खड़गपुर में बाइक चलाने का वजूद  बरक़रार है , शायद बढ़ता जा रहा है | ऐसा लगता है जैसे पंक्तियों में खड़े युकलिप्टस स्टैंडिंग ओवेशन (standing ovation) दे रहे हों |मुट्ठी में चाभी को भींचे जब टिक्का में घुसते हैं ,तो साथ में तूफ़ान सा चलता है| बालों की कशिश देख कर कोई बेझिझक बता सकता है , आज हवा का रुख किस तरफ है |थोड़ा गैर -संबैधानिक(illegal) जरूर है , लेकिन है सेक्सी ||

आप और हम-2

थोड़ा इश्क़ , थोड़ी बेकरारी इधर भी है ,और उधर भी 
सुबह से सांस ऐसे खींच रही है जैसे 
सहतूत से रेशम खींच रहा हो |
दिन और रात ऐसे चढ़ रहा है जैसे 
सूरज की लाश पे कोई एहसान का दुपट्टा चढ़ा रहा हो |
आखिर कब तक बेहोशी का नाटक करता सूरज ||

आप और हम किसी सतरंज की बिसात से कम नहीं 
थोड़ा इश्क़ , थोड़ी बेकरारी इधर भी है ,और उधर भी 
खैर 
काफी कुछ दावं पे लगा के 
थोड़ा समझौता आपने भी किया है ;
थोड़ा हमने भी |
कुछ तो नहीं है ;
फिर इतना कुछ क्यों ? पता नहीं ||