Skip to main content

Posts

Showing posts from 2015

क्रॉस वर्ड 1, 2 & 3

क्रॉस वर्ड 1 

इस शहर के
सड़कों पे चलते चलते
ना जाने कितनी नज़्मों की करतूतें
बुने हैं हमने ;
बाँकी शहरों से अलग थलग है ये
बाँकी शहरों में जाता हूँ
तो बार रेस्टोरेंट मॉल घूमता हूँ
इस शहर जब भी आता हूँ
क्रॉस वर्ड जरूर जाता हूँ |
ये पब की करिश्माओं का शहर नहीं
ये लफ़्ज़ों की रूमानी का शहर है |
ये मेरा शहर नहीं है |
ये मेरे रोमांस का शहर है |


क्रॉस वर्ड 2


मैंने बड़े ही अदबी जबान में
लगभग हमउम्र से सख्स से पूछा
" सर, हिंदी सेक्शन किधर है ? "
"उधर देखिये "

चेतन भगत और मेलुआह का
 अनूदित जखीरा
घुटने तक आ रहा था |
कोई हाफ गर्लफ्रेंड
छाती तक आ रही थी
और बेचारा मैला आँचल
दबा कुचला सा पड़ा था नन्हे कोने में ||

मैंने फिर पूछा
" सर हिंदी काव्य सेक्शन किधर है ?"
वो मुस्कराया
कुछ बोला नहीं |

और फिर
थोड़ा ठहर के बोला
" हिंदी काव्य का क्रॉस वर्ड यहाँ नहीं है |"

गर ये मेरे रोमांस का शहर नहीं होता
तो मैं उसे जरूर बताता
हिंदी काव्य का क्रॉस वर्ड कहाँ है ?


क्रॉस वर्ड 3

इतना तो तय है
हिंदी काव्य इतनी भी कमसीन नहीं
जो सिलवटों में समेटा जाए
और
रखा जाए शीशे के तले |
हिंदी काव्य क…

An encounter to remember and Postscript notes

Today is december 9th, Some of my good friends whom I count in the genius most list are yet to be placed, some are yet to be shortlisted, some's hard work is yet to be recognized. Since last six days I am strolling across the open grounds of Nalanda complex, waiting for people to convert, come back home, dewrap themselves from those courteous suits that tests our patience, perseverance, pretensions and priorities. It's all about a day, a click of destiny.

I got the yes nod on 3rd December night, though it took mornings to reach up to me. Interview through which I got an offer was simple, straightforward, Not a big deal type, just two or three maths problems and some talks. The interviewer was young enough to realize the substance I am, yet old enough to realize the confidence in my eyes. Interviews that select you are generally like this, simple and smooth , but the one that rejects you are actually charming, to be talked about. And that rejected one was with Ernst and Young.

December Diary

नन्हें नन्हें पलकों से पनपे
नन्हें नन्हें ख्वाबों में
हंसी बड़ी खिल कर आती है
हलके गहरे पश्मीने में |

जितना तुम में हम गुजरे हैं
उतना हममें तुम ठहरी हो
जितना हँसे हैं उतना रोये हैं
हम अबके महीने में |

एक कश्मकश सी है आँखों में
एक उलझन सा खींचता है सीने में
बड़ी सयानी पहेली है
तुम संग मरने जीने  में |

Try to make an opinion where it actually matters

There are two types of issues, we all notice, read or go through everyday from newspapers, facebook or  twitter trends.
The first one are all those where we cry and cry, yet fail to make a difference. Some actor said "India is intolerant", someone reverted " No, its tolerant". These are  news born out of fucked up heartland of social media.

The other one are all those where we can make a difference, yet we choose to neglect. An 18 year old girl, while preparing for JEE in Kota decided to quit, hanged herself out of depression and fear of failure. This is sensitive and this is born out of society we all live in, society which has created a pretentious pressure on its own kids, Parents who have started comparing their kids with the neighbour kids. This is an outcome of priority to marks and competitive examinations, that our parents have fixed, your uncles, your aunties have fixed. These are people who will listen to you if you choose to make them realize. Modi and …

Choice of hypothesis

A statistician was asked to test the hypothesis, H0: Terrorism has no religion. The statistician demarcates the concerned population size, draws a large sample space runs the t-test at 99.9 % confidence interval and hypothesis H0 gets rejected. As the population in this context, consists of terror driven demographics, this was inevitable. The same statistician was asked again to test the hypothesis, H0: Religion has nothing to do with terrorism. The statistician demarcates the concerned population size, draws a large sample space runs the t-test at 99.9 % confidence interval and he fails to reject the hypothesis H0. As the population in this context, consists of typical social demographics independent of any inclination towards religion and sect, the statistician observed the same distribution of criminality over whole space. It had people from Syria, it had people from Mumbai, It had people from New York, It had people from Iraq  and hence inference was inevitable. The point is there…

‪#‎Nehru‬

I theoretically keep a distance from that mass of people, who attempt or spread their perception about ‪#‎Nehru‬ based on some media articles or photographs. Nehru can't be understood just on the basis of a photograph where he got clicked beside a hoarding " YAHAN PHOTO KHEENCHNA MANA HAI ". Neither should he be understood on the basis of that cigarette he is smoking in one of the viral photograph. If you have not been the part of 1950s, you need to read 1950s. The social and economic structure of 1950s are the best judge of Nehru and Nehruvian Leftism. Existence of an ideology is backed by requirements of society. Nehru existed because his existence was required. Children's day is over, and so is all those Nehru related posts, yet this idea should find place in your mind that Nehru deserves respect for what he did over and above whatever he couldn't .

SMILES

I have been told 
Pink is shy and Green is bold . 

She is a girl and she doesn't care 
what else is  style and what else is fair : 
A pink hair band and a deep green sweater 
No kohl in eyes, no painted lips 
No care for diet , 
(Yes I saw her buying chips) . 

She has no craft 
No sentiment for ironies 
Her hairs are straight, 
No curls, No attempt . 

She carries heavy bag always biased She writes black ink 
reads technique
talks like a consultant 
walks like a geek 

But when she SMILES
and blinks her eyes 
I realise
pink band and green sweater 
kohl and lips , diet and chips 
straight hairs and heavy bags 
are just lies, damn lies . 

I have been told 
beauty lies in act, wait and behold.  





तू मेरी रगों में दौड़ , लहू तो बन ॥

तू  मेरा पेशा न बन , जुस्तजू तो बन
तू मेरी आदत न बन, आरजू तो बन ॥

मेरे उदास शामों को तू रौशनी दे न दे
कम से कम रौशनी के हूबहू तो बन ॥

तू मुझे मान ना मान , पहचान ना पहचान
मेरे शिकस्त -ए -लफ़्ज़ का आबरु तो बन ॥

मेरे साथ न  चल, मेरा हाथ न थाम
तू मेरी रगों  में दौड़ , लहू तो बन ॥

ये इंस्टाग्राम वाली हंसी, इतनी भी सच्ची नहीं

बेबसी और बारे-गम का सीने में ख्याल कहीं
उनकी चुप्पी में बीतता है, अपना दिले- हाल कहीं ॥

हमने पिछले ही पहर अपनी सारी चाल चल दी
क्यों ठिठक के रह गया है, उनका आखिरी चाल कहीं ॥

कुचल के पुराने आसमां, हम बढे हैं इस तरफ
इत्तेफ़ाक़े रह गया है, जेब में उनका रुमाल कहीं ॥

ये इंस्टाग्राम वाली हंसी, इतनी भी सच्ची नहीं
बंद कमरे  में हमें, रो लेने दो फिलहाल कहीं ॥

आखिरी सांस टूटी, तब जा के ख़्याल आया
काश पहले आया होता, खुदा  का ख़्याल कहीं ॥

खैर जब उठाओगे हमारा जनजा , काँधे तुम
मेरे नाम कर देना  बाज़ीचा ऐ अत्फ़ाल कहीं ॥  


 बाज़ीचा ऐ अत्फ़ाल= Kid's Playground
बारे-गम = Weighted with pain

A clip from Friday Knights poetry meet

Thank you kedia, for such an awesome line of appriciation.

पेशे से इंजीनियर है , शायर सा रहता है ॥

कुछ खबर, कुछ बेखबर सा रहता है 
दिन आजकल बे-असर सा रहता है ॥ 

छुपाये  कहाँ , ख़ामोशी की आबरू अपनी 
हर एक नज़र,  एक नज़र सा रहता है ॥ 

कुछ इस तरह हुआ है,  फ़िज़ाओं का असर 
वो अपने कमरे में भी, दफ्तर सा रहता है ॥ 

फकीरी का चराग बनकर उठता है हर रात 
खैर, अपने ही नज़्मों में, पिंजर सा रहता है ॥ 

आश्ना से बेफिकर , फलसफों से बहुत दूर 
पेशे से इंजीनियर है , शायर सा रहता है ॥

धुआँ

जब कभी 
किसी नुक्कड़ पे 
कोई किसी के काँधे में 
हाथ डाले चलता है ; 
टूटते तारों को फूंक फूंक के 
कसमें - वादे करता है ;
सामने वाले की लबों पे 
अपनी नन्ही सी अंगुली रखकर 
अनचाही बातों से डरता है ;
तब 
वो सारी सोहबतें,
सारी शामें ,सारे सफ़हे 
(जिनमें दर्ज हैं तुम्हारे हमारे अफ़साने)
याद आते हैं ; 
जिन्हें मैंने जला डाला | 

मैं इस कसमकश में दर बदर 
भटक रहा हूँ बेखबर : 
इस जलती बुझती चिंगारी  में 
मेरा कितना हिस्सा है |
मैं आदि हूँ या अंत सजर 
मैं वक्ता हूँ या मूक प्रखर 
मैं माचिस हूँ या काठी हूँ ; गर मैं माचिस हूँ तो काठी कौन है 
गर मैं काठी हूँ  तो माचिस कौन है ?

अब इतना तो तुझे समझ होगा जानां 
चिंगारी यूँ ही नहीं जलती |
ये धुआँ 
जितना मेरा है 
उतना ही तुम्हारा भी ||

कितना मासूम मेरा शहर है

फ़िजा की आबरू  से बेखबर है
वो अपने ही ख्वाबों का पिंजर है ||

सारे शहर के चराग जल उठे
 वो एक है जो बेअसर है ||

शहर की दुआओं पे जीता है
उसका अपना  क्या ही घर है ||

इश्क़ ए साजिश से है बीमार
उसे चारागरी की क्या फिकर है ||

शाम हुई ,पंछी घर लौट आये
कितना मासूम मेरा शहर है ||

This nazm illustrates five different elements of society.
1. The sannyasi
2. The marginalized people , who can't afford light
3. Beggars
4. Lovers
5. Complexity of human society , as compared to birds society. Birds still return home by evening , We don't .

The struggle to be backward is the most forward notion

During late 70s , the chief minister of Bihar Karpuri Thakur rose to the podium as the first backward face with such a large momentum and vote base . Thakur broke the logjam of upper caste dominance in politics and arguably is considered the first leader who united the backward vote bank . Though Lalu Prasad did the same in a better and more stable way with a guarantee of longer period sustainability until Nitish Kumar came out with a backward- forward handshake formulae using Advani's Ram mandir wave. However it was Thakur's 1977 ministry in which backwards surpassed forwards in cabinet roles , at least in number.


In Thakur's 1977 cabinet 42 % ministers were backwards compared to 29% forwards. 
Thakur capitalised the momentum by bringing in the karpuri formulae of reservation. Thakur straight away allocated 26 % of reservation to OBCs in State government Jobs. And this was almost 12 years before V P Singh's OBC reservation in 1990. However Thakur had sense of economic s…

History of Monday-phobia & Market

Market faces the third of its type Monday-phobia.
In 1929, the first stock market crash was felt in last week of October. Though the prior signal was made by 24th October , Black Monday (October 28) proved to be the antagonist of the wall street.Black Tuesday followed. The crash signaled the beginning of the 10-year Great Depression. In 1987, DJIA dropped by 22 % over the day and so did markets of Hong kong,Europe, US. Black Tuesday followed in Australia and New Zealand. Program trading was one of the lead cause. Today's Black Monday certainly establishes our faith in market's Monday-phobia.

इस कदर भी कोई इश्क़ किया करता है क्या ?

सौ डेढ़ सौ
दिन रात की ख्वाईश
सौ डेढ़ सौ
दिन रात के वादे ।

बीस बाइस की उम्र सजर
पुलिंदा भर के कच्चे चिट्ठे ।

सर्दी  की लम्बी रातें में
सत्ताईश कोस की तन्हाई ।

टुकड़े भर की बेवफाई पे
सदियों भर के बेबस चर्चे ।

मुट्ठी भर के  टिमटिम  तारे
और उम्र भर की रौशनी ।

धूर भर की ख़ामोशी
और कठ्ठे भर गम का बोझ ।

इस उम्र में
इस कदर भी कोई
इश्क़ किया करता है क्या ?
यूँ सुलझी सी जिंदगी कोई
रिस्क किया करता है क्या ?

कोस = unit of distance
धूर = 6ft * 6ft ( unit of area)
कठ्ठे =  20 धूर

गुलज़ार और मैं: तुम मेरे पास होते हो गोया जब कोई दूसरा नहीं होता

मोमिन ने अपने वक़्त में जब ये शेर दर्ज किया की " तुम मेरे पास होते हो  गोया जब  कोई दूसरा नहीं होता " तो ग़ालिब कह बैठे ; " मोमिन ये एक शेर मुझे दे दो , मेरी पूरी जमीनी ले लो " |
अलग अलग दौड़ के मजनुओं ने इस शेर को अलग अलग तरीके से अपनी मेहबूबा के लिए दोहराया है | मैं आज गुलज़ार के लिए दोहराता हूँ |

मुक्त दो चार लफ़्ज़ों में  एक पूरी जिंदगी समेट लेने की हैसियत रखनेवाले गुलज़ार जाने अनजाने हमारे और आपके पास हर उस लम्हे में होते हैं जब कोई दूसरा नहीं होता |

कभी कोई आपके कंधे पे हलके हथेलियों से मारता है , पूछता है " माचिस है ? , तो आप अनायास कह जाते हैं
" मैं सिगरेट तो नहीं पीता 
मगर हर आने वाले से पूछ लेता हूँ 
 "माचिस है?" 
बहुत कुछ है जिसे मैं फूंक देना चाहता हूँ |"

यूँ ही कभी कोई आश्ना , आपसे पूछ बैठे जो "क्या भेजोगे इस बरस ? " तो भींगा सा एक ख्याल आता है
" गुलों को सुनना जरा तुम सदायें भेजी हैं / गुलों के हाथ बहुत सी दुआएं भेजी हैं
तुम्हारी खुश्क सी आँखें भली नहीं लगती / वो सारी यादें जो तुमको रुलायें भेजी हैं || "

जो कोई तन्हा…

आर्किटेक्चर *

*  For Sarang and Anshul

हर एक क्लिक से बनते बिगड़ते
शीशे के कुछ तहखाने
सारील के कुछ दरवाजे
वो खींच रहा है
गोल चौकोर परिधियों में जब्त
अरमानों की शोख अदाएं |

कल्पना का  एक समंदर
उम्मीदों की कुछ बुनियादें
वो खींच रहा है
छोटे बड़े व्यास के ईर्द गिर्द
चंद आरी तिरछी रेखाएं |

सारील : A type of wood
परिधियों : Perimeter
बुनियादें : Base of building
व्यास : Diameter
रेखाएं : Lines

डोर

बड़ी सिद्धत से दोनों ने
जो अर्सों पहले बाँधा था |
आज
बड़ी मस्सकत से
वही एक डोर खोल रहे हैं |
दो चार गिरह   खोलते खोलते
एहसास होता है :
कितना मुश्किल है
फलसफों से मुँह फेरना
पुराने तरंगों को छेड़ना ;
कितना मुश्किल है
तन्हा रातों को मापना ;
तारों की बस्ती को
अब्र ए कफ़न से ढाँपना ।
कितना मुश्किल है
उन कच्चे कोयलों  पे नाचना
जिसे सदियों के सूरज ने
शोला बना दिया है ॥

चलो फिर
क्यूँ  ना
इन दो चार खुले गिरहों   को
एक बार फिर से बांधते हैं ?
गर ये आग का दरिया है
तो आग का दरिया फांदते हैं ॥

The Dilemma of Placement semester & कर्मण्ये वाधिकारस्ते म फलेषु कदाचना

I sometimes wonder what drives people to keep walking in a dark street with no vision or certainty to reach the concerned landmark. Are we addicted to struggle ?

If you give me a book and say read it, someone will ask you questions from here after 10 days and if answered correctly , you get this Chhotu munch , I assure you I will read it . But before reading I will make sure that the concerned someone will ask me questions and that too from this book only . And then I will read it , why read? I will taste it , I will chew it , I will mug it down . I will read between the line and beyond the paragraph , to an extent that I can even explain the mark of punctuation . Its not for the Chhotu munch, Chhotu munch is just a metaphor, may be because this is the only chocolate which is not so sweet and I know. But the whole story is about the action and the fruit map.

So I wonder when I hear people saying prepare for placement. Preparing for placement is more about philosophy , it is so much so…

Not every one

Not every one  should be the participant.For every generation there should be some elites who are just observing and recording the tape.Your generation deserves one observer, else who will write your history, what will your kids and kids of your kids read ? 
An observer's life is different, he can't participate, he should not participate, don't ask him to participate . He is listening, recording your smiles and tears when you were hanging over drugs and alcohol, success and ego and sometimes failures or lost love. Make sure you have one such kid in your proximity if you want your performance get recorded.

लाइटर

मैं
सिगरेट  तो नहीं  पीता
खैर
इत्तेफ़ाक़  से लाइटर रखता  हूँ |

वो एक लाइटर
जो  कोई मेरे टेबल पे छोड़  गया था ;
सबो - रात  साथ साथ चलता है |
जाने अनजाने
किसी चौराहे
माचिस की कश्मकश  में भटकते
दो एक आवारे मिल जाते हैं,
मैं लाइटर बढ़ा देता हूँ |

बड़ा सुकून है इसमें
किसी को बेपनाह जलते देखना
और
फिर चुप चाप निकल जाना ,
 नए हमनवा  की तलाश में ||

शायद
लाइटर के साथ साथ
कोई एक नैतिक जिम्मेदारी छोड़ गया है
इसे जलाते रहने का
इसे जंग से बचाने का |
काफी  कुछ पेट्रोलियम कैद है
उन्मुक्ति की उम्मीद लिए ;
क्या पता
ऐसे ही मिट जाए धरा का अँधेरा
इन नन्हीं नन्हीं चिंगड़ियों से ||

बे काफिये हो चले हैं जिंदगी के सारे अशार

बे काफिये हो चले हैं जिंदगी के सारे अशार
तुम्हारे हर एक कयास पे रोये हैं हम जार जार ||

जख्म है तो स्याही नहीं , स्याही है तो जख्म नहीं
कुछ इस तरह से चल रहा है हमारे लफ़्ज़ों का कारोबार ||

रोज़ रोज़ के तमाशे सी है , हमारी तुम्हारी दिल्लगी
न वो रंज, न  कहकहे ,बस बेरुखी बार बार ||

पुराने असरे का चौखट, दरकते सारिल के दरवाजे  उम्र हो चला इश्क़ का , अब तो तौबा कर लो 'कुमार' ||

लबों को याद आता है तुम्हारा इतना होना ।

१. यूँ हर जंग में तुम्हीं से सामना होना
लबों को याद आता है तुम्हारा इतना होना ।।

२. दिन की तसल्ली रातों की नींद बिखर जाती है
इश्क़ में मुनासिब है यूँ परेशां होना ।।

३. मेरे हर लफ्ज़ पे उनकी आँखें झुक जाती है
दिलों  को रास आता है यूँ जाने जां होना ॥ 

४. उम्मीदों के लौ पे जो  जलता रहा सारा इश्क़
भूल बैठे हम बातियों का कुरबआं  होना ॥

५. ता उम्र हमने बस इतनी सी रक्खी थी ख्वाइश
हमसे बेवफा होना , ना कभी मेहरबाँ होना ॥

६. जवानी फूलों में जिया , छुटपन तितलियों के संग
बस की दौड़ आया है , संभल के बागबां होना ॥

७. जोड़ते जाओ ईंटों को ईंटों से कुमार
हर किसी की किस्मत नहीं आलिशां होना॥

स्कार्फ़ |

अच्छा लगता है ये दोनों
एक ही प्लेट में खाते हैं |
एक ही छतरी में आधे आधे
 भींगते ऑफिस जाते हैं |
हाथ पकड़ कर चलते हैं
जैसे
उम्मीदों का सौदाई कैद है
हथेलियों के पिंजर में |
बेजोड़ हँसते हैं ये दोनों
शहर के सन्नाटे पे भारी है ,
टूटे कांच की माफिक इनकी हंसी |

अच्छा लगता है ये दोनों
कुछ कुछ अलग से नज़र आते हैं |
वादे दर वादे करते हैं
वादे दर वादे निभाते हैं |
तो क्या ये मुमकिन है शायद
जिस दिन वायदों का एक तागा
हलके सिकन से टूट जाएगा
दोनों अपने अपने रास्ते निकल लेंगे ;
नए इश्क़ की तलाश में ?

चलो फिरभी अच्छा ही ये दोनों
वायदों के कारिंदे हैं |
हम जैसे आवारे नहीं ||

हम कितने आवारे हैं
हर रात वादे करते हैं
हर सुबह मुकर जाते हैं |
तुम्हारे ख्वाईश की कागजी कश्ती
मुंबई के मानसून में डूब जाती है |

और तुम कितनी मासूम हो जाना
एक आस लगाये बैठी हो
कभी तो थम्हेगी ये बारिस
और स्ट्रीट के किनारे किनारे
रंगीन स्कार्फ़ का स्टाल लगेगा |
मैं लेकर आऊंगा ||

चलो अच्छा है हम दोनों
वायदों के कारिंदे नहीं ,
हमें नए इश्क़ की तलाश नहीं
इसी खोली में एक दूसरे से
लड़ते लड़ते मर जायेंगें ||

साकी

कितने करार तोड़ आया हूँ , कोई तो हिसाब दे
लबों पे इतने रंज हैं साकी,कुछ तो जवाब दे ।।
रास नहीं आते अब परदों पे उतरते चढ़ते समीकरण
वो तितलियों के किस्से वाली गहरी नीली किताब दे ।।
ले ले सारे कस्मकश मेरे हिस्से की साकी
शीशे का एक गिलास दे, भींगते मौसम का ख़्वाब दे ।।
जिंदगी के सारे मकां पे लुट गया हूँ मैं
साकी ,मुझे आज तू अपने पसंद की शराब दे ।।

घर को जाना , और घर का हो जाना

एक आध डायरी , एक आध किताबें , दो टी-शर्ट काफी नहीं है क्या ? ये इतना बड़ा बड़ा ट्राली लेकर आप   कहाँ जाते हैं ? घर ? या फिर घर में भी  एक अपना शहर सजा रखा है आपने

दो चार दिनों के लिए ही जा रहा हूँ , लेकिन इस उम्मीद से की घर जाऊंगा तो  घर में ही रहूँगा | घर को जाना , और घर का हो जाना अपने आप में एक संवेदनशील जिम्मेदारी है | घर जाने का मतलब है , कहीं से दूर होना और फिर घर के करीब आना | घर जा रहे हैं , तो अपने व्हाट्सप्प ,ट्विटर , फेसबुक चाट वाले फैमिली को दो चार दिनों के लिए बाई बाई कहिये , सलाम दुआ कीजिये और फिर लौटेंगे की उम्मीद जताईये | इस बार घर जाइये , और घर में रहिये | घर की दरो दीवारों को महसूस कीजिये , कितनी  सीज गयी हैं पुरानी ईंटें , खिड़कियों में कितना खोखलापन  है, अपने कितने अपने हैं आज भी , कितनी उम्मीद है उनकी आँखों में , कितनी थी और कितनी बच गयी है , यही वक़्त है हिसाब करने का | भिन्डी की सब्जी और रोटी खाते खाते , अगर घर में भी व्हाट्सप्प करते रहिएगा , तो चाची की आँखों की मुहब्बत , और मम्मी की आँखों का इश्क़ एक बार फिर से यूँ ही रह जाएगा , आपको एहसास नहीं होगा | मैं ये नहीं क…

Gulzar's Namkeen is a literal masterpiece .

Gulzar​'s Namkeen​ reminds of a social demograph  partially realized in Jane Austen​ 's Pride and Prejudice​ . Struggle of three sisters to survive a living , struggle of a mother to protect daughters from their father takes a new interface as a truck driver moves in their home to stay . Movie boldly challenges patriarch social microstructure and more over excels qualitatively in portraying  truck driver   Sanjeev Kumar . Sacrifices and affairs in relationship has been portrayed with a typical yet stunning Gulzar's signature conflict . Shabana Azmi​ is mute yet speaks a lot .   
And this song explains a lot .
The three sisters are shown pounding grain in the song and going about their work and singing this song with partly nonsense words. Gulzar additionally puts in the words pantaa bhate tattkaa baigun poraa, which geographically doesn’t make sense, since they are Bangla words of a brinjal dish. I have been told that it means “fresh eggplant roast in wet rice”. 
https://www.y…

वो एक गुलमोहर |

हर एक बार जब कोई कानूनी फैसला हमें सटीक सा नहीं लगता , हम ये कह कर अखबार के पन्ने  उलट  देते हैं "  कानून अँधा हो गया है | " और हर बार जब कोई प्राकृतिक आपदा आती है , हम ये कह कर पन्ने उलट देते हैं की देखो ऊपर वाला सजा दे रहा है |

ये एक नज़्म , उस गुलमोहर के लिए है , जो अर्सों से मेरे नज़्मों का हिस्सा रहा है | चले आ रहे किसी नाटक का आखिरी सीन है ये , ट्रेजेडी है , प्रोटैगनिस्ट मरने वाला है ; कुछ कुछ 70 के दशक की फिल्मों की तरह जिसके आखिरी सीन में अमिताभ मर जाते हैं |  खैर जो भी है पढ़िए :

वो एक गुलमोहर
जो कल तक बड़ा हसीन था |
जिसके फूलों पे पलने वाले भंवरे
कभी कभी मेरे कमरे में आते थे ;
और मैं
ख़ासा परेशाँ होता था |
वो एक गुलमोहर रहा नहीं ||

वो एक गुलमोहर
जो आसरा था
सारे बेगुनाह परिंदों का ;
जिसके ओट में आकर इन्होनें
आजाद रविश की तलाश छोड़ दी |
वो एक गुलमोहर रहा नहीं ||

वो एक गुलमोहर
जो बड़े अर्सों से
मेरे नज़्मों का किरदार था |
जो बिना इजाजत
मेरे तस्सवुर के
कैनवस पे उतर  आता था ;
वो एक गुलमोहर रहा नहीं ||

बस एक एहसास रह गया है :
आखिर
किसके गुनाहों की सजा
किसे मिल रही है !
हमने ख़ु…

आईने के बिखर जाने से , चेहरे बिखर जाएंगे क्या ?

आईने के बिखर जाने से , चेहरे बिखर जाएंगे क्या
उनके चले जाने से , नज़्म संवर जाएंगे क्या ?

जो वो पूछें , किस बात से रंजिश है जमीं
 शिकायतों के कच्चे चिठ्ठे , हम पढ़ पाएंगे क्या ?

यूँ तो पर्चीयां बाँट गयी हैं हमारे मुकद्दर की
जब वो सामने  आयेंगें , दो बात कर पाएंगे क्या ?

जिस रफ़्तार से चलते हैं हम भरे बाजार में
जो एक बार ओझिल हुए , फिर नज़र आएंगे क्या ?

उनके सिरहाने से , ख़ास दूर नहीं मेरा शहर
यूँ ही कभी दिल्लगी में , इस  शहर आएंगे क्या ?

आँखों में बेनूरी लिए भटकता  हूँ  जानां
जो वो पहचान बैठे तो , वापस इधर  आएंगे क्या ?

वो मेरे नज़्मों का क्या होगा ?

वो जिसने कभी न  देखी समंदर
वो जिसने कभी ना रेत फांके
वो जो कभी नंगे बदन
दोपहर की सड़कों पर चला नहीं
वो मेरे नज़्मों  का  क्या होगा ?

वो एक सवेरा जिसके दूब पर
बची नहीं है ओस की बूंदें
वो एक क़स्बा जिसकी दुपहरी
बीती नहीं पीपल के तल्ले
वो सारे बूढ़े जिनकी आँखों में
इश्क़ इनायत , दुआ नहीं
वो मेरे नज़्मों  का  क्या होगा ?

वो जिसकी आँखों की रौशनी  में
पुराने जख्मों का सफर नहीं
वो जिसको अपनी बेनूरी की
दास्ताँ का  खबर नहीं
वो जिसके चेहरे पे दो एक चार
पिछले जंग का असर नहीं
वो जो वक़्त का हुआ नहीं
वो मेरे नज़्मों  का  क्या होगा ?

वो जो ख्वाइशों के सिलसिले में
रिश्तों से दूर भटक गया है
तरक्कियों की अट्टालिकाएं बनाये
वापस घर लौटा नहीं
वो जो अपनों का हुआ नहीं
वो मेरे नज़्मों  का  क्या होगा ?


ठाकुर

कहा जाता है , पुरवा हवा का झोंका , पुराने दर्द बढ़ा देता है ;
जमींदारी प्रथा और उस दौड़ में जमींदारों द्वारा नीचले किसानों के प्रति अपनाये गए रवैये को पढ़ते पढ़ते , ऐसा एहसास हुआ की , हर एक सख्स अपने आने वाली पीढ़ी को कुछ न कुछ विरासत में देता है | कोई गुलिस्तां देता है , कोई मकां देता है ; ये सब शायद वे लोग हैं , जिन्होनें अपने बच्चों को सितम की दास्ताँ दी है |


ठाकुर , तुम्हारे जख्मों का नाम -ओ - निशां कुछ ऐसा है |
जब भी पुरवाई चलती है मेरा बच्चा रोने लगता है ||

जानां

इतना तो तय हो गया है
गुजरते वक़्त के साथ
न तुम , तुम रहे ;
 न हम ,हम रहे |
रुत बदला है ,
तो कुछ कुछ  रुख भी बदला है |

हाँ
तब की बात और थी
जब भी मिलते थे
तितलियों , दुपट्टे की बातें करते थे
आसमां नीला है , आसमानी है , टरक्वीज़ है
रंग , रंग पे लड़ते थे |
बेजोड़ तैयारी से
एक दूसरे के लिए संवरते थे |
तुम्हारा आधा वक़्त तो
इस कसमकश में गुजर जाता था
कॉफी  पियें , तो कौन सा ?
जिंदगी जियें , तो किस तरह ?
और
लंच टेबल पे जब एक चम्मच
उचक के हाथों से गिर जाता था
दोनों जोर के हँसते थे |

अब जब भी मिलते हैं
नौकरी , पेशा और अकादमी की बातें होती है
चम्मच , स्पून बन गया है ;
कभी गिरता नहीं |
और जो गिर जाए
तो क़यामत आती है
हंसी आती नहीं ||

कितना कुछ बदल गया है जानां
एक चांदनी सफर से उतरकर
बेजार दरिया में आ गए हैं हम |
हम भी वैसे ही हो गये हैं ;
जिनकी खिल्लियाँ उड़ाया  करते थे ||


ये एक नज़्म आखिरी मार्च के लिए ||

अचानक से एहसास हुआ , रोजमर्रा में कुछ छूट रहा है | इस बार आखिरी मार्च के लिए कोई नज़्म नहीं लिख पाया | ये एक नज़्म आखिरी मार्च के लिए |आखिरी मार्च ही मेरी प्रत्याशा है |


प्रत्याशा
ये एक नज़्म तुम्हारे लिए
याद है
स्कूली बच्चे थे हम दोनों
और
हाथ पकड़ के
कैसे गलियों में घुमा करते थे
अब सोचता हूँ
तो शर्म आती है
वो  फर्स्ट फ्लोर वाली आंटी क्या सोचती होगी ?
चाँद के नीचे
सोया करते थे , तुम्हारी गोद में सर रख कर ;
और एक दूसरे को समझाते थे
इश्क़ है , तो सब जायज है |

कोई वादे नहीं किये हमने
कोई कसमें  नहीं उठाई कभी
ये कैसा रिश्ता था ;
तुमने कभी कुछ माँगा नहीं
मैंने कभी कुछ दिया नहीं ;
बस वक़्त बीता
और अपने अपने रास्ते निकल गए |
प्रत्याशा
ये एक नज़्म तुम्हारे लिए ||

हर एक घर के बेसमेंट में , यूँ ही दो चार मैं हूँ ||

पिछले Friday knights meet में  शैलेश ने एक अच्छी नज़्म सुनाई थी " वो पापा थे " | कुछ कुछ उसी क्रम में बदलते दौड़ , बदलते रिश्ते और रिश्तों के बीच की खाई बयां करने की कोशिश है एक पिता के नज़रिये से


तुम्हारे सारे बिखरे जख्मों का ,अकेला शिकार मैं हूँ
ये सारी हुकूमत तो तेरी है , बस  सरकार मैं हूँ ||

ऊँगली पकड़ के मैंने तुमनें आसमान तक पहुँचाया है
अब घर का जर्रा कहता है, घर में बेकार मैं हूँ ||

कल हो जायेगी नीलाम   , हर एक ईंट सरेआम
तुम्हें इसकी फ़िक्र नहीं , क्यों बेकरार मैं हूँ ||

तुम्हारी सारी पीढ़ी ने क्लासलेस करार दिया मुझे
लेकिन अपनी मेहबूबा का , आज भी जां निसार मैं हूँ ||

ये बस मेरी  कहानी नहीं , हर चौराहे का अफ़साना है
हर एक घर के बेसमेंट में , यूँ ही दो चार मैं हूँ ||

आवारगी

Hindi elocution 2015  P.S > script won team Bronze for RK .
कभीकभीऐसाएहसासहोताहैकीहमनेखुदअपनेहाथोंबुझादिएहैं , मुहब्बतोंकेदिएजलाके | हमसबकिसीनकिसीकतारकेहिस्सेहैं | हरतरफआवाजेंहैं , अज्ञातऔरबेनिशान , नाजानेकिसकोपुकाररहीहैं ? नाजानेकिसेबुलारहीहै ? लोगभागेजारहेहैं | येजोहमारीलेक्चर , टूटोरियल ,प्रैक्टिकलकीदुनियाहै ,येजो७.३०से५.३०बजेकीदिनचर्याहै : इसकसमकशऔरबेचैनीमें , हमारेछुटपनकीआवारगी , कहींनकहींदमतोड़तीनज़रआतीहै | मान्यवर आजमेरेचर्चाकाविषयहै "आवारगी " | मैंमानताहूँ , येविषयइससदनकेबनेबनायेसिलसिलेकोएकझटकेमेंतोड़देताहै , खैरयहीतोआवारगीहै | घबराइयेनहीं | आवाराकोईबुरा